Friday, March 28, 2008

ये है मेरी कहानी

आज मेरा हिन्दी लिखने का मूड है। कष्ट के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ
अगर आप आज पूछेंगे की राहुल की ज़िंदगी में क्या चल रहा है तो ये तीन नज़मे एक सब कुछ बयां कर देंगे
________________
आंसू भी हैं प्यार में,
ग़म भी है प्यार में,
तकरार भी है प्यार में,
सौ मुसीबतें भी है प्यार में,
मगर साला क्या करें...
हम भी हैं प्यार में!!
Just too much in love.. with life.. with love itself..
_______________________
यार ने दिल का हाल बताना छोड़ दिया ,
हमने भी गहराई में जाना छोड़ दिया,
जब उसऐ ही दूरी का एहसास नही,
हमने भी एहसास दिलाना छोड़ दिया...
Missing you...
____________________
ये दोस्ती कितनी अजीब है,
फ़िर भी दिल के करीब है,
पल में hasaati , पल में रुलाती है,
ज़िंदगी भर याद ये आती है,
हर वक्त हर लम्हा ये हमारे साथ होती है,
हर दुःख हर ग़म की ये दवा होती है,
हर साथ छूट जाए पर ये साथ देती है,
हर गहरे रिश्ते की शुरुआत होती है,
जो भी हो दोस्त,
दोस्ती प्यार की बुनियाद होती है...
( One of my very dear friend nidhi composed this... and trust me guys i believe in it.. and i have lived this... )
____________________


4 comments:

Anonymous said...

true n touching..

God bless you

~Mishti

Anjuli said...

sahi sahi...

gunj said...

icecream khane chal...forget all this!

Rahul... in City of Dreamz said...

@Mishti: Thanks :) i need those blessings ...

@Anjuli: sahi hai na bidu!

@Gunj: hmmm... vanilla ice-cream with hot chocolate fudge for me please!!